आँखों के परदे

आँखों के परदे भी नम हो गए हैं,
बातों के सिलसिले भी कम हो गए हैं।
पता नही गलती किसकी है,
वक्त बुरा है या बुरे हम हो गए हैं?