आज के जमाने की शायरी

कुछ तो था उसके होठों पर, ना जाने क्यों शरमाता था…
.
.
.
एक दिन हंसा तो पता चला कि कमबख्त तंबाकू खाता था!