Shayri

उनकी जहाँ से निराली है अदा

उनकी जहाँ से निराली है अदा |
अंदाज़ उनके है यारो सबसे जुदा ||
खफा हो जाए तोह क़ातिल से कम नहीं |
मेहरबान हो जाएँ तोह लगते हैं खुदा ||

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
Back to top button
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x