Menu Close

प्यार को पंछी समझ के प्यार करो

प्यार को पंछी समझ के प्यार करो;
और उस पंछी को पिंजरे से आज़ाद कर के देखो;
अगर लौट के आए तो अपना है;
अगर ना आए तो सोचना कभी अपना था ही नही..

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *