Menu Close

बड़े होने का एहसास

कसम से उस दिन बड़े होने की feeling हुई थी ।
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
जब नाई ने बाल काटने के लिए कुर्सी पे
पहली बार लकड़ी का पाटिया नही लगाया ।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *