Menu Close

महान चाणक्य के विचार

इस संसार में  आज तक किसी को भी अपने धन से ,
जीवन से, स्त्रियों से और भोजन से पूर्ण तृप्ति नहीं मिली ।
इनका जितना अधिक उपयोग किया  जाता है,
उतनी ही उनको और पाने की कामना बढ़ती जाती है  ।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *