31 December

एक बार एक गांव के मुखिया ने ऐलान किया कि गांव के सारे मक़ानों को तोड़कर वो सबके लिए संगमरमर के घर बनाएगा !
अगले दिन बुलडोज़र चला और पुरा गांव ध्वस्त।
सब लोग खुश थे कि चलो संगमरमर का घर मिलेगा रहने को।
लेकिन उस आदमी के पास न तो संगमरमर था और न ही ढंगका मिस्त्री।
लोग तंबू डालकर रहने लगे। दस दिन बीते, बीस दिन बीते, किसी का घर नहीं बना।

लोगों ने जब घुड़की दी तो मुखिया और मोहलत मांगने लगा।

धूप और ठंड के कारण कई लोग मरने लगे।

आख़िर में सौ दिन बाद उस मुखिया ने सबको कहा कि…बाहर धूप में घूमने से विटामिन- डी मिलती है!
ये स्वास्थ्य के लिए बहुत फ़ायदेमंद है !

हर किसी को विटामिन-डी लेनी चाहिए ! बाहर खुली हवा मे ऑक्सीजन की मात्रा ज्यादा होती हैं! इस से स्वस्थ और लंबी आयु प्राप्त होती है !

लोग जैसे ही मक़ान के बारे में पूछते, मुखिया झट से जुम्लेबाज़ी करके विटामिन- डी और ऑक्सीजन के फ़ायदे गिनाने लगता…!

* . . . …आगे क्या होगा *

यह 31 December* के बाद बताया जाएगा…