Ehsaas

एक प्रेमी-युगल शादी से पहले काफी हँसी-मजाक और नोक-झोंक किया करते थे।
शादी के बाद उनमें छोटी छोटी बातो पे झगड़े होने लगे।
एक दिन उनकी शादी कि सालगिरह थी
पर बीवी ने कुछ नहीं बोला वो पति का रिस्पांस देखना चाहती थी।
सुबह पति जल्दी उठा और घर से बाहर निकल गया।
बीवी रूआंसी हो गई।
दो घण्टे बाद डोरबैल बजी वो दौड़ती हुई गई और जाकर दरवाजा खोला।
दरवाजे पर गिफ्ट और केक के साथ उसका पति था।
पति ने गले लगा के उसे सालगिरह विश किया फिर पति अपने कमरे में चला गया।
तभी अचानक बीवी के पास पुलिस थाने से फोन आता है की आपके पति की हत्या हो चुकी है उनके जेब में पड़े पर्स से आपका फोन नम्बर ढूंढ के कॉल किया गया है।
बीवी सोचने लगी की उसके पति तो अभी घर के अन्दर आये हैं। फिर उसे कहीं से सुनी एक बात याद आ गई की मरे हुये इन्सान की आत्मा अपनी अंतिम विश पूरी करने एक बार जरूर आती है।
वो जोर-जोर से रोने लगी।
उसे अपना वो सारा चूमना लड़ना झगड़ना, नोक-झोंक याद आने लगा उसे पश्चाताप होने
लगा की अन्त समय में भी वो अपने पति को प्यार ना दे सकी वो बिलखती हुई रोने लगी।
जब रूम में गई तो देखा उसका पति वहाँ नहीं था।
वो चिल्ला चिल्ला के रोती हुई “प्लीज कम बैक कम बैक” और कहने लगी अब कभी नहीं झगड़ूंगी ।
तभी बाथरूम से निकल के उसके कंधे पर किसी ने हाथ रख के पूछा क्या हुआ?
वो पलट के देखी तो उसके पति थे वो रोती हुई उसके सीने से लग गई फिर सारी बात बताई।
तब पति ने बताया की आज सुबह उसका पर्स चोरी हो गया था।
फिर दोस्त की दुकान से ये गिफ्ट वगैरह उधार लिए।
——————————————————
*दोस्तो जिन्दगी में किसी की अहमियत तब पता चलती है जब वो नहीँ होता ।
हम लोग अपने दोस्तों रिश्तेदारों से नोक-झोंक करते है लड़ते झगड़ते भी हैं
पर जिन्दगी की करवटें कभी कभी भूल सुधार का मौका नहीं देती
हँसी खुशी में प्यार से जिन्दगी बिताइये और अपनी नाराजगी को अपनो से
ज्यादा देर तक मत रखिये ।