Shayri

Humhi akele nahi jaagte

हमीं अकेले नहीं जागते हैं रातों में,
उसे भी नींद बड़ी मुश्किलों से आती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button