Tu chand aur mai sitara

तू चाँद और मैं सितारा होता,

आसमान में एक आशियाना हमारा होता,

लोग तुम्हे दूर से देखते,

नज़दीक़ से देखने का,

हक़ बस हमारा होता..।।